Mutual Fund में निवेश क्यों करना चाहिए ? 2021 के best mutual-fund कौन-कौन से हो सकते हैं?

3
1154
mutual fund

आज के इस दौर में जब चारों  तरफ Covid-19 नाम की महामारी फैली हुई है।  ऐसे में एक आम आदमी के सामने सबसे बड़ा सवाल जो सामने आता है वो है अपनी नौकरी और फिर है पैसों को सही जगह कैसे इन्वेस्ट करे।  

आज जो निवेश के पारंपरिक तरीका है जैसे कि Fixed Deposit(FD), Recurring Deposit(RD), या अपने पैसों को Savings Account में जमा रखना।  परंतु पिछले कुछ सालों में सरकारी और निजी बैंकों ने अपनी ब्याज दरों  में इतनी गिरावट ले आई है की उनकी ब्याज डरे तो Inflation Rate(महंगाई दर) से भी बहुत नीचे आ गई है।  

महंगाई दर से भी नीचे आने का मतलब है आपके पैसों की ताकत हर गुजरते दिन के साथ काम होती जा रही है।  

यानि की मान लीजिये आज जो चीज़ Rs १००/- में मिलती है वो आज से ५ साल बाद 5% की महँगाई दर से Rs 127.628   की मिलेंगी जबकि आज की तारीख़ में जितने बड़े Banks है उनकी Savings Account की Interest Rate 2.5-3.5% से दे रहे है यानि आपका Rs 100/- 5 साल बाद 3.5% की इंट्रेस्ट रेट के साथ Rs 118.75 हो जाएँगी।  यानि हर Rs 100/- में आपको लगभग Rs 9/- का घाटा।  

Fixed Deposit जो की हर आम आदमी की महँगाई से लड़ने का सबसे बड़ा हथियार थी उनमे भी Interest Rate अधिकतम 5.5-6% चल रही है।  यानि की महंगाई से लड़ने और आपने पैसो की ताकत को बरक़रार रखने का सबसे कारगर तरीका भी खत्म। 

ऐसा नहीं है की ब्याज़ देर ज्यादा और कही नै मिलते परन्तु बाक़ी जगहों मेँ risk भी ज्यादा होता है जिससे एक आम नागरिक बचना चाहता है। 

आखिर में आता है Share Market जिसकी मदद से आप न सिर्फ महँगाई दरों की चिंता से मुक्त हो सकते है बल्कि अपनी पूँजी(Principal Amount) को कई गुना बढ़ा सकते है।  

परन्तु Share Market कोई बच्चो का खेल नहीं है।  इसके लालच के चक्कर में अच्छे-अच्छे डूब गए।  

तो क्या एक Middle-Class आम आदमी के पास कोई ऐसा विकल्प मौजूद नहीं हैं।  जो आपके पैसो को सुरक्षित रखने के साथ-साथ आपको एक अच्छी ब्याज़ दर भी प्रदान करें?

जी है ऐसा एक रास्ता है जो बाकि विकल्पों के मुकाबले सबसे सुरक्षित और सबसे अधिक ब्याज दर प्रदान करता है।  इसका नाम भी आप सबसे सुना ही होगा , म्यूचुअल फंड. 

म्यूचुअल फंड क्या है? What is a Mutual Fund ?

आज कल हर तरफ म्यूचुअल फंड सही है के कई विज्ञापन आपने आपने TV में देखे होंगे की आखिर क्या है म्यूचुअल फंड?

हम आपको इसे विस्तार से समझने की कोशिश करते है।  वैसे हम अगर इसे सरल भाषा में  करे तो म्यूच्यूअल फण्ड निवेश करने का  तरीका है जहाँ एक कंपनी  अपने सभी ग्राहकों से उनकी निवेश की छमता अनुसार पैसे इकट्ठा करती है और इसे Stock Market चिन्हित कंपनियों के शेयर या सरकार द्वारा issue bonds में निवेश करती है।  

आपके पैसों को जो निवेश करता है उसे Fund Manager कहते है जो की Share Market का जानकार इंसान।   ऐसा नहीं है कि यह कोई एक ही व्यक्ति करता है , उनकी एक समिति सदस्यों  होती है   एक फण्ड मैनेजर  करता है।  

आपके द्वारा चुने गए निवेशित Fund में जो भी फायदा या नुकसान  वह सभी  सदस्यों  में बराबर बांटा जाता है। 

ऐसी सभी कंपनियां जो म्यूच्यूअल फंड्स चालत  भारत  सरकार की regulatory body SEBI(Securities and Exchange Board of India) के अंदर रजिस्टर्ड होती है।  

SEBI इस बात को सुनिश्चित करता  कंपनियां आपने खाता धारको न करे।  

मेरे  द्वारा दी गई जानकारी से आपको ये तो समझ आ गया होगा की आखिर म्यूचुअल फंड क्या है?

आपके मन में ये बात जरूर आ रही होंगी की म्यूचुअल फंड  के फायदे या नुकसान क्या-क्या है? आइये इसे एक-एक करके जानते है

Mutual Fund के फायदे क्या है? What are the benefits of Mutual Funds?

निवेश के लिए ज्यादा पैसो की जरुरत नहीं  -: म्यूच्यूअल फंड्स की बात जो मुझे व्यक्तिगत रूप से सबसे ज्यादा प्रभावित करती है वो है निवेश करने की राशि।  म्यूचुअल फंडs में कोई भी इंसान छोटी से छोटी रकम से शुरुआत कर सकता है।  यह राशि Rs 500 /- से शुरू होकर कितने ऊपर भी जा सकती है।  यह आम आदमी को ये ताकत देती है की वह आराम से अपनी Salary का एक सबसे छोटा हिस्सा निकल कर के भी म्यूच्यूअल फंड्स के फ़यदे बिना डरे उठा सकता है।  

निवेश करने की सरलता-: यह आपके पैसों को बाजार में निवेश करने का सबसे सरल और सुरक्षित तरीका है। आपके द्वारा निवेशित पैसे एक अनुभवी और बाजार के विश्लेषकों की देखरेख में होता है।  इन सबका मतलब यह है की बाजार को न जानने वाला भी एक साधारण व्यक्ति भी म्यूच्यूअल फण्ड में इन्वेस्ट कैसे करे? (How to invest in Mutual-Fund?) जैसे सवालों से घबराए बिना आसानी से निवेश कर सकता है।   

बाजार के जोख़िम से बचाव  -: जैसे हमने पहले भी बताया की जब आप अपने पैसो को म्यूचुअल फंडs के द्वारा निवेश करते है तो आपके पैसे एक बाजार जोखिम को समझने वाले Fund Managers के देख रेख में निवेशित किया जाता है।  यह आपको बाजार के उतार चढ़ाओ से बचने के लिए एक ढल की तरह काम आता है।  इसलिए अगर आप एक नए निवेशक है और बाजार में पैसे निवेश करना चाहते है तो म्यूचुअल फंड सबसे सरल और सुरक्षित विकल है।  

म्यूच्यूअल फण्ड में निवेश के तरीके बहुत आसान है  -: म्यूचुअल फंड में निवेश करने की सबसे अच्छी बात यह है की इसमें कोई भी व्यवसाय वर्ग का व्यक्ति आसानी से निवेश कर सकता है।  इसमें निवेश आप दो तरह से कर सकते है। पहला होता है एक मुश्त राशि निवेशित करना या हर महीने एक निश्चित राशि निवेशित करते रहना।  इस तरह के आसान निवेश करने के विकल्प इसे निवेश करने का एक अच्छा तरीका मानते है।  

Types of Mutual Fund in India : Mutual Fund कितने टाइप के होते है?

आज बाजार में कई तरह के म्यूचुअल फंडs निवेश के लिए उपलब्ध है।  परन्तु मुख्यतः म्यूच्यूअल फंड्स के 5 प्रकार के होते है।  

Equity Fund (इक्विटी फण्ड) -: यह इस प्रकार के फंड्स होते है जिसमे फंड्स बाजार में निवेश करते है।  बाजार में निवेश करने का मतलब है की वह सीधे कम्पनीज के शेयर में निवेश करता है।  यह निवेश थोड़ा जोखिम भरा होता है।  इस प्रकार के फंड्स में लम्बी अवधि के लिए निवेश करना चाहिए।  इस फंड्स में एक व्यक्ति को काम से काम 5 से 10 साल के लिए निवेशित करना चाहिए। इस फंड के अंदर Large-Cap Fund, Mid-Cap Fund और Small-cap Funds आते है।  

Hybrid म्यूचुअल फंड (हाइब्रिड म्यूच्यूअल फण्ड) -: इस म्यूच्यूअल फंड्स में Fund Manager निवेशकों के पैसों को अलग -अलग categories में निवेशित करते है।  इस फंड्स में कुछ पैसे बाजार में चिन्हित कम्पनीज के शेयर में, कुछ सरकार द्वारा प्रायोजित स्कीम जिसे डेट भी कहते है , उसमे निवेश करता है।  इस प्रकार के फंड्स आपके निवेश में विविधता प्रदान करते है।  इस प्रकार के फंड में जोखिम कम होता है परन्तु return भी काम मिलते है।  इस फंड्स की विविधता को देखते हुए SEBI ने इसे 7 प्रकार के Hybrid Funds के तहत परिभाषित करने की कोशिश की है।  यह 7 प्रकार के फंड्स कुछ इस प्रकार है -:

  • Aggressive Hybrid Fund 
  • Conservative Hybrid Fund 
  • Balanced Hybrid Fund 
  • Multi-Asset Allocation
  • Balanced Advantage 
  • Arbitrage Fund
  • Equity Saving Scheme 

इस प्रकार के फंड्स की सबसे ाची बात ये होती है की ये आपके पैसो को बढ़ने के साथ-साथ एक स्थिरता भी प्रदान करते है।  

Solution Oriented म्यूचुअल फंड (सलूशन ओरिएंटेड म्यूच्यूअल फण्ड) -: यह स्कीम उन लोगों के लिए है जो किसी एक खास लक्ष्य की प्राप्ति हेतु अपने पैसों को निवेशित करना चाहते है।  यह लक्ष्य बच्चे की शादी, उनकी पढ़ाई या अपने रिटायरमेंट को लक्ष्य मानते हुए निवेशित हो सकते है।  यह स्कीम Long-Term इन्वेस्टमेंट करने वाले लोगों के लिए बहुत ही आकर्षक स्कीम है।  इस स्कीम में आपके पास 3 साल का Lock-in period हुआ करता था जिसे अब SEBI ने ५ साल कर दिया है।  

Gilt म्यूचुअल फंड ( गिल्ट म्यूच्यूअल फण्ड) -: यह निवेश का सबसे सुरक्षित तरीका है।  इस फंड के अंदर सभी स्कीमो में निवेशक का पैसा सरकार द्वारा प्रायोजित स्कीम्स में लगाया जाता है। सरकार द्वारा प्रायोजित schemes में पैसा लगाने के कारण आपका पैसा पूर्णतः सुरक्षित रहता है।  यह फण्ड ‘धीरे चलो सुरक्षित पहुँचो’ की तर्ज पर काम करता है।  

Conclusion -: 

म्यूचुअल फंड उन लोगो के लिए एक सबसे ाचा और सुरक्षित विकल है जो बाजार में निवेश तो करना चाहता है परन्तु उसके पास बाजार को समझने और पढ़ने का समय नहीं है।  म्यूचुअल फंड किसी भी व्यक्ति की लम्बी अवधि के लक्ष्य को पूर्ण करने की एक बहुत ही अच्छी व्यवस्था है।  

3 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here