Sindoor Lagane ka Mahatva || हिन्दू धर्म में सिंदूर लगाने के कुछ महत्वपूर्ण नियम , जिसका पालन शादीशुदा स्त्रियों को अवश्य करना चाहिए।

0
42
Sindur lagane ka mahatva

Sindoor Lagane ka Mahatva :- आज का हम जानेंगे की सिंदूर कब लगाए ,कब ना लगाए , कितने बार लगाए , और अगर गलती से सिंदूर गिर जाये तो क्या करे , सिंदूर लगाने में कितनी खर्च करे काम / ज्यादा और सिंदूर लगते समय कौन – कौन सी गलती नहीं करनी चाहिए | एक सुहागन औरत के लिए सिंदूर कितनी आवश्यक है | वो हमे समझाने की जरुरत नहीं है वो भी अगर आप हिन्दू है तो | आज हम इसी बिंदु पर बात करते हैं | सिंदूर की लगाने के कुछ नियम होते है जो इस प्रकार है ,

1. कितना खर्च करें सिन्दूर? Sindoor Lagane ka Mahatva

जब-जब हम कंघी करेंगे तब-तब हमे सिंदूर सीधे मांग में लगाना चाहिए और जितना हो सके हमे कम से कम उसे खर्च करना चाहिए | क्योंकि हमारे बड़े बुजुर्गों का कहना रहा है ,और हमारे लोक-कथाओ में भी कहा गया है की, जितना हम सिंदूर कम खर्च करेंगे उतना वह लम्बे समय तक चलता है और हमारा सौभाग्य बना रहता है | इसलिए हमे सिंदूर थोड़ा – थोड़ा खर्च करना चाहिए | 

2. सिन्दूर लगाने के पहले क्या करें?

 जब बाल धो कर आते हैं तो,ध्यान रखिये की ज्यादा चौखट हमे लांघना न पड़े चौखट आप समझते होंगे जो हमारे दरवाजे होते है | वही बहुत लोगो के घर में बाथरूम थोड़े दूर में होता जिसे उन्हें अपने रूम में जाने में बहुत चौखट से हो कर जाना पड़ता हैं तो इस बात का ध्यान रखे और सिंदूर लगाने के पहले कुछ मीठा जरूर खाये कुछ लोगो को आदत होती है की वो बिना पूजा किये कुछ नहीं कहते तो वह शक्कर ,गुड़ या काजू ,किशमिश यानि फलाहारी वाला कुछ मीठा खा सकते हैं | 

3. सिन्दूर लगाने समय की सावधानियाँ

Sindoor Lagane ka Mahatva
SOURCE

 जब हम बाल धो कर सिंदूर लगते हैं तो हमे सिंदूर के साथ कभी सिर पर तेल नहीं लगाना चाहिए नहीं कभी बाल धो कर तुरंत पैर में  ना आलता लगाना चाहिए ,ना नाखून काटना चाहिए  वैसे आज के टाइम में बहुत कम स्त्रियां ये सब नियम का पालन करती हैं पर कुछ हैं अभी भी ये सारी नियम को मानती हैं और ये सब बातों का ध्यान रखते हैं जब हम कुवांरे होते है तो इतना इन सब बातों को ध्यान में नहीं रखते पर शादी होने के बाद हमे इस सब बातों का ध्यान रखना चाहिए | 

4. सिंदूर लगाने से पहले सर ढ़के या नहीं |

हमे सिंदूर कभी भी बिना सिर ढँके नहीं लगाना चाहिए जब भी लगाए दुपट्टे से या किसी भी कपडे से  सिर ढक लें फिर सिंदूर लगाए और कभी भी खड़े हो कर श्रृंगार नहीं करना चाहिए और श्रृंगार जब भी करें पूर्व दिशा के तरफ अपना मुँह करके लगाना चाहिए | 

यह भी पढ़ें :- हिंदू शास्त्रों के अनुसार 8 अमर कौन हैं

5. मासिक धर्म में सिंदूर लगाए या नहीं?

हमे अपने मासिक धर्म में सिंदूर नहीं लगाना चाहिए या कोई भी श्रृंगार नहीं करना चाहिए यह पूर्णतः वर्जित होता है | जब तक हम अपना बाल ना धो ले मासिक धर्म के तीसरे या पांचवे  दिन हम बल धो कर हमे सिंदूर या श्रींगार करना चाहिए  | 

6. सिन्दूर गिर जाए तो क्या सावधानियाँ बरतें?

 अगर हमसे गलती से सिंदूर गिर जाये जमीन पर तो हमे आँचल से साफ करके हाथ जोड़ कर प्रणाम कर लेना चाहिए और माफ़ी मांग लेनी चाहिए भगवान से | 

7. श्रृंगार की चीज़े दुसरो के साथ बांटे या नहीं?

हमे अपने श्रृंगार की कुछ चींज़े कभी किसी के साथ नहीं बाँटना चाहिए जैसे सिंदूर जिसे हमारी सदी हुई होती है  , हमे अपने माथे की बिंदी निकल कर नहीं लगाना चाहिए , काजल , बिछिया | 

8. देव स्थान से आते वक़्त सिन्दूर क्यों लाना जरुरी है? Sindoor Lagane ka Mahatva

 जब भी हम देव स्थान पर जाते है तो हमे सिंदूर ले कर आना चाहिए और उसे हम किसी पीतल की डिब्बी में रख सकते है और इस सिंदूर को हम जो भी घर में मेहमान आते हैं जो शादीशुदा होती हैं (ननद , भाभी, देवरानी ,सास, माँ ) उन्हें दे सकते है |  पर याद  रखे आप जो लगाए रहते हैं या पहने होते है उन्हें कभी उतर कर न दे| 

Writer : Priya Mishra

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here